पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद साहब लरज़ती हुई ज़ुबान में कहते हैं…

0

यह पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद साहब का आख़री ख़ुत्बा है जिसे उन्होंने खुद घूम घूम कर तीन बार कहा था,क्योंकि यह वह सबसे ज़रूरी बात थी,जिन्हें आखिर में ही कहा जाना था ताकि कयामत तक मत भूलो ।मगर अफसोस कि यह न बताया जाता है, न सुनाया,याद रखना तो बहुत दूर की कौड़ी है।

पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद साहब लरज़ती हुई ज़ुबान में कहते हैं

मेरे प्यारे भाइयो! मैं जो कुछ कहूँ, ध्यान से सुनो। ऐ इंसानो! तुम्हारा रब एक है।

अल्लाह की किताब और उसके रसूल की सुन्नत को मजबूती से पकड़े रहना।

लोगों की जान-माल और इज़्ज़त का ख़याल रखना, ना तुम लोगो पर ज़ुल्म करो, ना क़यामत में तुम्हारे साथ ज़ुल्म किया जायगा।

कोई अमानत रखे तो उसमें ख़यानत न करना। ब्याज के क़रीब न भटकना।

किसी अरबी को किसी अजमी (ग़ैर अरबी) पर कोई बड़ाई नहीं, न किसी अजमी को किसी अरबी पर, न गोरे को काले पर, न काले को गोरे पर, प्रमुखता अगर किसी को है तो सिर्फ तक़वा(धर्मपरायणता) व परहेज़गारी से है अर्थात् रंग, जाति, नस्ल, देश, क्षेत्र किसी की श्रेष्ठता का आधार नहीं है। बड़ाई का आधार अगर कोई है तो ईमान और चरित्र है।

तुम्हारे ग़ुलाम, जो कुछ ख़ुद खाओ, वही उनको खिलाओ और जो ख़ुद पहनो, वही उनको पहनाओ।

अज्ञानता के तमाम विधान और नियम मेरे पाँव के नीचे हैं।

इस्लाम आने से पहले के तमाम ख़ून खत्म कर दिए गए। (अब किसी को किसी से पुराने ख़ून का बदला लेने का हक़ नहीं) और सबसे पहले मैं अपने ख़ानदान का ख़ून–रबीआ इब्न हारिस का ख़ून– ख़त्म करता हूँ (यानि उनके कातिलों को क्षमा करता हूँ)|

अज्ञानकाल के सभी ब्याज ख़त्म किए जाते हैं और सबसे पहले मैं अपने ख़ानदान में से अब्बास इब्न मुत्तलिब का ब्याज ख़त्म करता हूँ।

औरतों के मामले में अल्लाह से डरो। तुम्हारा औरतों पर और औरतों का तुम पर बराबर का अधिकार है।

औरतों के मामले में मैं तुम्हें वसीयत करता हूँ कि उनके साथ भलाई का रवैया अपनाओ।

लोगो! याद रखो, मेरे बाद कोई नबी नहीं और तुम्हारे बाद कोई उम्मत नहीं।

आज मैंने तुम्हारे लिए दीन को पूरा कर दिया और तुम पर अपनी नेमत पूरी कर दी”

यही धर्म है, जिससे इस्लाम के मानने वाले कोसों मीलों दूर हो चुके हैं ।इधर उधर की नुक़्ताचीनी की जगह,शिकवे शिकायत की जगह अगर यह अपनी ज़िन्दगी में इस आख़री मश्विरह को ही मान लें,तो ज़िंदगियां सँवर जाएँ । मैं तो चाहता हूँ कि अगर तुम हिन्दू हो तो राम-कृष्ण तुम्हारे चरित्र से झलकें । तुम ईसाई हो तो ईसा,यहूदी हो तो मूसा और अगर मुसलमान हो तो मोहम्मद तुम्हारे आचरण में हों । हाँ इसपर भी अगर तुम्हें श्रेष्ठ मानव बनना है, तो तुम्हारे आचरण से ईसा, मूसा,कृष्ण,राम,मोहम्मद,बुद्ध, नानक सब झलकें… फ़िलहाल इस आख़री खुतबे के रट लो, जो सबके लिए है,शायद कुछ काम ही आए… #hashtag

लेखक– हफीज़ किदवई

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here