नरेंद्र मोदी नामक इस गुब्बारे की हवा अब निकल चुकी है?

अब जब भी मैं मोदी को सुनता हूँ तो मेहसूस होता है कि नरेंद्र मोदी नामक इस गुब्बारे की हवा अब निकल चुकी है? क्योंकि अब उनके भाषण में कुछ भी नया  या अलग नहीं होता जो ये संकेत देता है कि बीते पिछले पाँच सालों में प्रधानमंत्री के तौर पर ही नहीं एक राजनेता के तौर पर भी नरेन्द्र मोदी खाली हाँथ ही रहे हैं ।

2013 के वक्त के बाद से जबसे मैंने नरेंद्र मोदी को सुनना शुरू किया है तबसे अब तक एक बात ही स्पष्ट तौर पर समाने आयी है,कि नरेंद्र मोदी एक स्टीरियो टाईप(एकरूपता वाले) व्यक्ति हैं जिनके पास अब कोई विजन नहीं रहा है और आगे भी शायद ना हो, क्यूंकि पांच सालों में तो “एंड्रॉयड” सिस्टम भी लगभग चार से पांच बार अपग्रेड हो चुका है पर श्रीमान नरेंद्र मोदी जी का ना तो कोई अपडेट हुआ है ना ही किसी भी नयी थीम ने उनके मन मष्तिक में जन्म लिया है,मतलब ये कि पाँच साल से प्रधानमंत्री जैसे सर्वोच्च पद पर रहने के बाद भी इस व्यक्ति का टोटल विकास “जीरो” है मतलब सेम इंटरफेस सेम यूजर एक्सपीरियंस ।

जिस मोदी लहर के दम पर वे सत्ता में आये थे आज भी उनके मन मष्तिक में वही सवार है वे दिमागी तौर पर आज भी खुदको विपक्ष का ही नेता मानते हैं । उनके पिछले पांच सालों के कथित “विकास” का कोई भी स्वरूप वे इतना मज़बूत नहीं कर सके हैं जिसे लेकर जनता के बीच जा सकें,आप पाँच साल पहले के और उनके आज के भाषण सुनिए आपको जरा भी फर्क नजर नहीं आयेगा कुछ शब्द भी सेम टू सेम आज भी उसी अंदाज में इस्तेमाल करते हैं ।

प्रधानमंत्री और तीन बार मुख्यमंत्री जैसे महत्वपूर्ण और गरिमापूर्ण पद पर आसीन होने के बाद भी इस व्यक्ति के अंदर का अहसास-ए-कमतरी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा,ये आज भी खुदको मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री कहने की हिम्मत नहीं पैदा कर पाये हैं,पर चायवाला,और चौकीदार कहलाने में गर्व मेहसूस करते हैं क्या इनसे ये सवाल नहीं होना चाहिए कि क्या ज्यादा महत्वपूर्ण है तकरीबन 15 साल मुख्यमंत्री रहना 5 साल प्रधानमंत्री रहना या फिर कुछ साल “कथित” चायवाला रहना ?

वैसे सच कहूँ तो यार मोदी जी अब आप बोर करने लगे हैं उन्ही घिसे पिटे जुमलों के साथ गाँधी,नेहरू, पाकिस्तान,गर्व,राष्ट्रवाद और देशभक्ति कभी इन शब्दों के बिना भी कुछ बोलकर साबित कीजिए कि आप सच में एक नेता हैं संघ का टेपरिकॉर्डर नहीं ।

आपका एक सच्चा फैन – सैय्यद असलम अहमद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *